बुन्देली समकालीन कला इतिहास में सफलता के तीन साल

बुन्देली समकालीन कला

बुन्देली समकालीन कला में बुंदेलखंड आर्ट सोसाइटी के प्रयासों व सफलता के तीन वर्ष पूरे

30 मई 2020 को बुंदेलखंड आर्ट सोसाइटी ने बुन्देली समकालीन कला में अपने तीन वर्ष पुरे किये हैं| इन तीन वर्षों में सोसाइटी ने बुंदेलखंड कला के लिए वो किया जो अपने आप में एक मिसाल है| बेशक इन तीन वर्षों को सोसाइटी की सफलता के तीन साल कहा जा सकता है| इस अवसर पर, गत वर्षों में सोसाइटी व इसकी सफल यात्रा पर विस्तार से जानते हैं:

बुन्देली समकालीन कला में अमूल्य योगदान

गत तीन सालों में सोसाइटी के सफलता के कुछ मत्वपूर्ण तथ्य:

  1. इस सोसाइटी ने बुंदेलखंड में कला के कार्यक्रमों को नियमित करने का काम किया है|
  2. पहली बार लगातार अन्तराष्ट्रीय-राष्ट्रीय स्तर के कला आयोजन कराए जाने का श्रेय भी सोसाइटी को जाता है|
  3. कम से कम खर्च में सभी कलाकारों को साथ में ले कर काम करने वाली बुंदेलखंड की पहली संस्था है|
  4. इन्टरनेट में ऑनलाइन अपनी उपस्थिति दर्ज करने वाली व कला के आयोजन ऑनलाइन करने वाली बुंदेलखंड की पहली कला संस्था|
  5. बुंदेलखंड का नाम कम समय में विदेशों में भी रोशन करने वाली एक सक्रिय कला संस्था |

बुंदेलखंड आर्ट सोसाइटी का विजन व मिशन

विजन
  • सभी प्रकार की ललित कलाओं व संस्कृति को विकसित करना, प्रोतसाहित करना, बढावा देना, व उनके लिए अनुकूल वातावरण बनाना|
  • बुंदेलखंड क्षेत्र को कला व संस्कृति के क्षेत्र में एक अंतरष्ट्रीय केंद्र स्थापित करना
मिशन
  1. बुंदेलखंड आर्ट सोसाइटी का उदेश्य सभी प्रकार की कलाओं एवं संस्कृति, कलाकारों एवं कला समुदाय के लिए काम करना है,                    
  2. क्षेत्रीय कलाओं, लोक कलाओं, संस्कृतिक विरासत, सभी हस्तशिल्प कलाओं व लुप्त होती कलाओं को सरक्षण व विकसित करना,
  3. कला व संस्कृतिक गतिविधियों के माध्यम से शिक्षा, कौशल विकास, सामाजिक जागरूक व कल्याण के काम करना,
  4. बुंदेलखंड क्षेत्र को प्रसिद्ध राष्ट्रीय व अंतराष्ट्रीय कला व संस्कृतिक केंद्र के रूप में विकसित करना
  5. कलाकारों व कला समुदायों को विकसित करना, सहयोग करना व प्रोताषित करना,
  6. बुंदेलखंड में विश्वस्तरीय कला व संस्कृतिक कार्यक्रमों नियमित करना,

प्रमुख उपलब्धि

ऑनलाइन कला प्रदर्शनी-2020– हाल ही में 20 मई से आयोजित ऑनलाइन आर्ट प्रदर्शनी से बुंदेलखंड सोसाइटी ने अपनी उपस्थिति इन्टरनेट की दुनिया में दी| अपनी ऑनलाइन आर्ट गैलरी का भी शिलन्यास किया| कला विशेषज्ञ इसे सोसाइटी के दूरगामी सफलता का एक महतवपूर्ण कदम मान रहे हैं| निश्तित ही यह एक बहुत बड़ी उपलब्धि है, जो सोसाइटी को कला को प्रोत्साहित करने में आत्मनिर्भर बनती है|

(देखें- ऑनलाइन कला प्रदर्शनी)

अन्तराष्ट्रीय महिला कलाकार कला प्रदर्शनी-2020– अंतराष्ट्रीय महिला दिवस पर सोसाइटी ने महिला कला प्रदर्शनी का सफल आयोजन किया| यह आयोजन अपने आप में अनोखा व बुंदेलखंड के  इतिहास में पहली बार आयोजित किया गया|

(सम्बंधित पोस्ट- 1. दूसरी राष्ट्रीय वार्षिक कला प्रदर्शनी का अवार्ड वितरण संपन्न 2. अंतराष्ट्रीय महिला दिवस पर महिलाओं का सम्मान )

बुन्देली समकालीन कला
International Women Artists’ Exhibition-2020

बुंदेलखंड राष्ट्रीय वार्षिक प्रदर्शनी– बुंदेलखंड में राष्ट्रीय स्तर की एक नियमित गतिविधि की दरकार वर्षों से थी| अब इस जरूरत को बुंदेलखंड आर्ट सोसाइटी ने गंभीरता से लिया| इसलिए नियमित रूप से बुंदेलखंड राष्ट्रीय कला प्रदर्शनी का दो बार सफल आयोजन किया| गत वर्ष 13 अवार्ड वितरण कर इस आयोजन को और भी महत्वपूर्ण बना दिया| यह भी आयोजन बुन्देली समकालीन कला इतिहास में पहली बार हुआ है|

(सम्बंधित पोस्ट-द्वितीये बुंदेलखंड राष्ट्रीय वार्षिक कला प्रदर्शनी व अवार्ड्स-2019 का हुआ भव्य शुभारम्भ )

बुंदेलखंड कला पर्व– स्कूल के बच्चों को भी कला से जोड़ने व कला के प्रति उन्हें जागरूक करने के उदेश्य से कला पर्व का आयोजन 2017 से शुरू किया|

इस पर्व में सोसाइटी स्कूलों में कला प्रतियोगिता आयोजित करती है| अब तक 3 कला पर्वों का आयोजन झाँसी में सोसाइटी करवा चुकी है| भविष्य में सम्पूर्ण देश में इस पर्व को आयोजित करने की योजना है|

बुन्देली समकालीन कला

कला और कलाकार– सोसाइटी अपने ब्लॉग (www.bundelkhandart.com) पर कला और कलाकार कॉलम के माध्यम से एक से दो सप्ताह में एक कलाकार के बारे में प्रकाशित कर के उसको व उसकी कला को प्रोत्साहित करती है|

बुंदेलखंड को सफल बनाने वाली टीम

किसी भी संगठन को सफल बनाने में उसकी टीम सदस्यों का ही हाथ होता है| अतः बुंदेलखंड आर्ट सोसाइटी को अकार देने वाले लोगों का व उनकी टीम से भी आपको रूबरु कराते है:

Mueen Akhtar
  • मुईन अख्तर– सोसाइटी के वर्तमान स्वरुप, प्रमुख कार्यक्रमों की रूपरेखा बनाने वाले व्यक्ति मुईन अख्तर हैं| हालाँकि वो सोसाइटी के किसी भी पद पर औपचारिक रूप से नही हैं| मगर बुंदेलखंड को कला केंद्र के रूप में विकसित करने का सपना उन्ही का है| इसको साकार रूप देते हुए उनके साथियों ने बुंदेलखंड आर्ट सोसाइटी का गठन किया|
  • कार्यकारणी समिति: इस समिति में सचिव तबस्सुम बनो, अध्यक्ष रमेश सोनकर, उपाध्यक्ष विक्रांत झा व कोषाध्यक्ष आनंद श्रीवास्तव हैं|अन्य सदस्य में मंजिली, सबीहा नाज़ व फरहीन नाज़ हैं| समिति ने सोसाइटी के उदेश्यों हेतु सभी आवश्यक कार्यवाहियों को सफलतापूर्वक अंजाम दिया है| इस समिति के अतिरिक्त निम्नलिखित कुछ महत्वपूर्ण सदस्यों के भी सोसाइटी में महत्वपूर्ण योगदान हैं:
बुन्देली समकालीन कला
Dheeraj Khare
  • धीरज खरे– धीरज खरे सोसाइटी की ओर से वार्षिक प्रदर्शनी आयोजन माडल के प्रमुख हैं| इनके मार्ग दर्शन में सोसाइटी ने लगातार गत 2 वर्षों में वार्षिक प्रदर्शनी का सफल आयोजन किया है|
  • मृदुला सक्सेना: अंतराष्ट्रीय महिला कलाकार प्रदर्शनी के सफल आयोजन का श्रेय मृदुला सक्सेना को जाता है| वे इस आयोजन की प्रमुख आयोजक थी|
  • आर के खत्री: सोसाइटी के आन्तरिक प्रशासनिक कामों की जिम्मेदारी आर के खत्री देखते हैं| सोसाइटी के भावी योजाओं के क्रियान्वयन का काम इन्हीं के निर्देशन में होता है|
  • मेराज खान: सोसाइटी में महिला समिति की प्रमुख मेराज खान एक सोसाइटी का एक महत्वपूर्ण स्तम्भ हैं| वर्त्तमान में सोसाइटी के गत कुछ कार्यक्रमों में उनके योगदान व सोसाइटी के प्रसार में उनका अमूल्य योगदान रहा है|

1 thought on “बुन्देली समकालीन कला इतिहास में सफलता के तीन साल”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *